Syndicate content

Air pollution

आइये, खाना पकाने के ग़लत तरीकों से छुटकारा पाएं

Anita Marangoly George's picture

और इन भाषाओं में: English | Español | Français | العربية | 中文

An Indian woman cooking. Photo credit: Romana Manpreet and Global Alliance for Clean Cookstoves


यह एक सच्‍चाई है: लकड़ी, चारकोल, कोयले, गोबर के उपलों और फसल के बचे हुए हिस्‍सों सहित ठोस जलावन (सॉलिड फ्यूल) की खुली आग और पारंपरिक चूल्‍हों में खाना पकाने से घर के भीतर होने वाला वायु प्रदूषण दुनिया में, हृदय और फेफड़ों की बीमारी और सांस के संक्रमण के बाद मृत्‍यु का चौथा सबसे बड़ा कारण है।

लगभग 290 करोड़ लोग, जिनमें से ज्‍़यादातर महिलाएँ हैं, अभी भी गंदगी, धुआँ और कालिख- पैदा करने वाले चूल्‍हों और ठोस जलावन से खाना पकाती हें। हालत यह है कि इतने ज्‍़यादा लोग इन खतरनाक उपकरणों का इस्‍तेमाल कर रहे हैं जो भारत और चीन की कुल आबादी से भी ज्‍़यादा हैं।   

इसे बदलने की जरूरत है। और बदलाव हो रहा है जैसा कि मैंने पिछले सप्‍ताह में एक्‍रा, घाना में संपन्‍न क्‍लीन कुकिंग फोरम 2015 की कई बातचीतों को सुना। घाना के पेट्रोलियम मंत्री और महिला व विकास उपमंत्री की बात सुनकर, मुझे अहसास हुआ कि सर्वाधिक जरूरतमंद परिवारों को स्‍वच्‍छ चूल्‍हे व स्‍वच्‍छ ईंधन उपलब्‍ध कराने की गहरी इच्‍छा निश्चित रूप से यहाँ मौजूद है। लेकिन इच्‍छाओं को सच्‍चाई में बदलना एक चुनौती है। यह बात न केवल घाना में बल्कि दुनिया के कई हिस्‍सों के लिए भी सही है।

बाद में मैंने इस बारे में काफी सोचा खास तौर पर जब हमने पेरिस में होने वाली जलवायु परिवर्तन कॉन्‍फ्रेंस (सीओपी21) पर ध्‍यान दिया जहाँ दुनिया के नेता जलवायु परिवर्तन के दुष्‍प्रभाव कम करने के वैश्विक समझौते पर सहमति बनाने के लिए इकट्ठा होंगे। उस लक्ष्‍य तक पहुंचने की एक महत्‍वपूर्ण कुंजी ऊर्जा के स्‍वच्‍छ स्रोतों को अपनाना भी है। इस लिहाज से, संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ का सस्‍टेनेबल एनर्जी गोल (एसडीजी7) का एक मकसद - किफायती, भरोसेमंद, वहनीय (सस्‍टेनेब‌िल) और आधुनिक ऊर्जा तक सभी की पहुंच सुनिश्‍च‌ित करना - यह भी है कि ऐसे 290 करोड़ लोगों तक खाना पकाने के स्‍वच्‍छ समाधान पहुंचाएँ जाएँ, जो आज उनके पास नहीं हैं।  

More than dust in Delhi

Mark Roberts's picture
smog in delhi
The smog over Delhi. Photo credit: Jean-Etienne Minh-Duy Poirrier / Creative Commons

Urbanization provides the countries of South Asia with the opportunity to transform their economies to join the ranks of richer nations. But to reap the benefits of urbanization, nations must address the challenges it poses. Growing urban populations put pressure on a city’s infrastructure; they increase the demand for basic services, land and housing, and they add stress to the environment.
 
Of all these congestion forces, one of the most serious for health and human welfare is ambient air pollution from vehicle emissions and the burning of fossil fuels by industry and households, according to the World Bank report, Leveraging Urbanization in South Asia: Managing Spatial Transformation for Prosperity and Livability.”
 
Particularly harmful are high concentrations of fine particulate matter, especially that of 2.5 microns or less in diameter (PM2.5). They can penetrate deep into the lungs, increasing the likelihood of asthma, lung cancer, severe respiratory illness, and heart disease.
 
Data released by the World Health Organization (WHO) in May 2014 shows Delhi to have the most polluted air of any city in the world, with an annual mean concentration of PM2.5 of 152.6 μg/m3 . That is more than 15 times greater than the WHO’s guideline value and high enough to make Beijing’s air—known for its bad quality—look comparatively clean.

But Delhi is far from unique among South Asia’s cities.

Tackling Air Pollution in Dhaka

Shiro Nakata's picture
The Electrochemical Resarch Labaratory at the University of Dhaka

The air quality of Bangladesh’s capital - Dhaka - has dipped considerably in the last 10 years or so as the economy boomed, more factories were set up and the number of cars on the roads increased day by day. Air quality in Dhaka is quickly becoming one of the major health concerns for its residents; reliable and sophisticated data are thus urgently needed to help address this.
 
A proposal to establish a research center with modern and reliable laboratories for monitoring atmospheric pollutants in Dhaka, submitted by the Center of Advanced Research in Science (CARS) in University of Dhaka, received a research grant of about BDT 34.5 million (about US$ 442,000) from the Higher Education Quality Enhancement Project (HEQEP). The sub-project titled: “Establishing an Air Quality Monitoring Center” is headed by Dr. Shahid Akhtar Hossain, a professor of the Department of Soil, Water and Environment.